Socialize

Air strike by indian airforce - भारतीय वायुसेना के कहर से पाकिस्तान में हड़कंप,


भारतीय वायुसेना के कहर से पाकिस्तान में हड़कंप,जानें 10 दिन में कैसे हुई हमले की पूरी तैयारी-

पुलवामा हमले की ठीक 12 दिन बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में बम बरसाकर कई आतंकी ठिकानों को नस्तनाबूत कर दिया।
भारतीय मिराज विमानों ने कुल 1000 किलो बम  गिराकर जैस ए मुहम्मद समेत कई आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया।
सूत्रों के अनुसार 300 से अधिक आतंकी मरने की खबर है।
1971 के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर पहली बार djava बोला।
लेकिन यह सब एक दिन में नहीं हुआ । पिछले 10 दिनों से इस कार्यवाही की प्लानिंग चल रही थी।

       
                 15 फरवरी -वायु सेना अध्यक्ष बीएस धनोआ ने पुलवामा आंतकवादी हमले के जवाब में हवाई हमले का विकल्प रखा। भारत सरकार ने हरी झंडी दिखाई।

16-20 फरवरी-वायु सेना व थल सेना ने मिलकर LOC पर हवाई सर्वे 

जानें कैसे बना हमले का प्लान-

किया।


20-22 फरवरी-वायु सेना व ख़ुफ़िया एजेंसियों ने सम्भावित ठिकानों का नक्सा तैयार किया।


21 फरवरी-अजित डोभाल को हवाई हमले के लक्ष्यों की जानकारी दी गई।


22 फरवरी-दो विराज स्काड्रॉन ने 12 विमानों को मिशन के लिए चुना।


24 फरवरी-मध्य भारत मे परीक्षण


26 फरवरी-3:30 बजे भारतीय वायुसेना के मिराज विमानों ने POK में घुसकर आतंकी ठिकानों को तबाह किया।


आपको बता दें कि भारतीय वायुसेना ने LOC को पार करके बालाकोट आतंकी ठिकाने को तबाह कर दिया
बता दें कि बालाकोट सेंटर की दूरी एबटाबाद से महज 2-3 घंटे की है, एबटाबाद वही जगह है जहां अल कायदा का मुखिया ओसामा बिन लादेन अमेरिका के हमले में मारा गया था. भारत की तरफ से हमले की आशंका देखते हुए एक हफ्ते में आतंकियों के लॉन्च पैड खाली करा दिए गए थे. जबकि जैश के टॉप कमांडर आमतौर पर सुरक्षित बालाकोट कैंप में चले गए
सूत्रों के मुताबिक बालाकोट कैंप में कुल 6 बड़ी बैरक थीं और इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए निर्माण कार्य जारी था. बालाकोट कैंप में कमांडर समेत 300 आतंकी हर समय मौजूद रहते थे
जिनको भारतीय वायुसेना ने तबाह कर दिया।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ